Water Pollution in Hindi - जल प्रदूषण पर निबंध

Jal Pradushan Hindi Nibandh - Water Pollution Essay

जल प्रदूषण, पानी के निकायों, जैसे झीलों, नदियों, समुद्रों, महासागरों, साथ ही साथ भूजल का प्रदूषण है। ऐसा तब होता है जब प्रदूषक उपचार के बिना पानी के इन निकायों तक पहुंचते हैं। घरों, कारखानों और अन्य इमारतों से अपशिष्ट जल निकायों में आते रहते हैं।

Water Pollution Essay Nibandh Hindi

जल प्रदूषण प्रजातियों और पारिस्थितिकी प्रणालियों के लिए एक बहुत बड़ी समस्या है। यह पानी में रहने वाले पौधों और जीवों को प्रभावित करता है। लगभग सभी मामलों में प्रभाव न केवल व्यक्तिगत प्रजातियों और आबादी के लिए हानिकारक है, बल्कि व्यापक जैविक समुदायों के लिए भी हानिकारक है।

कृषि भी जल प्रदूषण के प्रमुख स्रोतों में से एक है, क्योंकि बेहतर विकास के लिए फसलों को दिए गए उर्वरकों का जल धीरे-धीरे  नदियों और झीलों में पहुँच जाता है, जो बड़ी मात्रा में पानी को प्रदूषित करते हैं।

ऐसे कई रसायनों हैं जो स्वाभाविक रूप से पानी के इन निकायों में पाए जाते हैं लेकिन प्रदूषण के विभिन्न स्रोतों से नाइट्रेट्स, फॉस्फेट, तेल, एसिड, और तलछट जैसे मलबे धीरे-धीरे जलाशयों को प्रदूषित कर रहे हैं । जल स्रोतों में मिला हुआ रसायन मनुष्यों और अन्य जीवित जीवों में  रोग पैदा करता है। नदियों में रहने वाले जीव भी प्रभावित होते हैं और फिर इंसान जो इस मछलियों का उपभोग करते हैं, उन्हें भी गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

भारतीय नदी प्रणाली भारतीय लोगों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। नदियां  वनस्पतियों और जीवों को पोषित करती हैं और एक परिदृश्य बनाती हैं। नदियां पहाड़ों को काट कर रास्ता और जमीन बनाती हैं। जैव विविधता नदी के अस्तित्व पर काफी हद तक निर्भर करती है। नदियों मछली पकड़ने और कृषि के रूप में बहुत से लोगों को आजीविका प्रदान करते हैं। यही कारण है कि, लगभग सभी महत्वपूर्ण भारतीय शहर इन नदियों के तटों में स्थित हैं।

अतः जल संसाधनों को प्रदूषण से बचाना समूचे देश की एक प्राथमिक जिम्मेवारी बन चुकी है | हमारी सारकर भी इस दिशा में भरसक प्रयास कर रही है। लेकिन देश के हर एक नागरिक को भी इस प्रयास में शामिल होना पड़ेगा अन्यथा हम आपने जल संसाधनों को प्रदुषण से नहीं बचा पाएंगे ।

Hindi Essay on Pollution | प्रदूषण की समस्या पर निबंध

Pradushan Ki Samasya - Hindi Nibandh

यह कोई नई बात नहीं है कि मनुष्य ने हमेशा, किसी न किसी तरीके से पर्यावरण को नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने पेड़ों को काट दिया, जानवरों शिकार किया, पालतू पशुओं को चराने के लिए जंगलों को नुकसान पहुँचाया । अब प्रदूषण की समस्या इस हद तक पहुंच गई है कि सृष्टि के अस्तित्व  को ख़तरा पैदा  हो गया है। मनुष्य ही पूर्णतयः इन सबका जिम्मेवार है ।

pollution essay hindi nibandh

हर दिन पर्यावरण की स्थिति बद से  बदतर हो रही है। मनुष्य पृथ्वी को इतना प्रदूषित क्यों करता जा रहा  है ? कारख़ानों , परमाणु ऊर्जा संयंत्र, औद्योगिक उद्यम से विसर्जित तरल, रासायनिक अपशिष्ट नदियों और झीलों में विसर्जित किए जा रहे हैं | कारखाने और सयंत्र  हवा में धुऐं और ज़हरीली गैसों की भारी मात्रा में उत्सर्जित करते हैं।  वनों की कटाई और खनन, गैस और तेल पंपिंग पूरी तरह से चालू है। यह सूची अंतहीन है। मेरी राय में, मानव के लालच और लापरवाही  की कोई सीमा नहीं रह गई है।

पूरे विश्व में काफी सरे लोग प्रदूषण की समस्या से ग्रस्त हैं। पर्यावरण की यह विकट स्थिति हमारे स्वास्थ्य को बुरी तरीके से  प्रभावित कर रही है। कैंसर, अस्थमा, एलर्जी, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और अन्य प्रदुषण सम्बन्धी बीमारियों  से ग्रषित लोगों की संख्या बढ़नी  शुरू हो गई है। ये सब गंदी हवा में सांस लेने और प्रदूषित भोजन खाये जाने का परिणाम है।

वैज्ञानिकों ने अनुसार मानव गतिविधियों  के कारण ओजोन गैस की परत की  पतली होती जा रही है।  ओजोन गैस हमारे ग्रह को हानीकारक  सौर विकिरण के प्रभाव से बचाता है।

जो कुछ भी हो रहा है वह हम में से प्रत्येक को प्रभावित करता है। सौभाग्य से, इस  समय, विभिन्न स्वयंसेवक दलों और पर्यावरण संरक्षण कंपनियों का अच्छी तरह विकास हो रहा है। बेशक, वे पूरे ग्रह को नहीं बचा सकते हैं, लेकिन कम से कम वे अभी भी इसे बेहतर और साफ करने की कोशिश तो कर रहे हैं ।

मुझे लगता है कि अगर हम में से प्रत्येक मनुष्य अगर पर्यावरण के बारे में सोचना शुरू कर दे तो जल्द ही ये धरती पहले के जैसे जल्द ही  सुन्दर और ख़ुशहाल हो जाएगी ।

Hindi Typing - English to Hindi Typing Online

Hindi Typing is a free online tool which lets you type Hindi or better to say Devanagari script is easiest manner. You Just require to type in English and press space bar. Corresponding text will automatically converted in Hindi. It is a Free and Fastest method to Type in Hindi, without any knowledge of Hindi keyboard.  Visit online Hindi Typing website.

hindi typing online

About Hindi Language

Hindi (हिंदी) is the fourth-most natively spoken language in the world. In the 2011 Indian census, 422 million (i.e. 42.2 Crore) people in India reported Hindi to be their native language. Hindi is written in Devanagari script (देवनागरी लिपि ). Devanagari consists of 11 vowels and 33 consonants and is written from left to right.

What we speak is language so "Hindi is language", and What we write is known as script, so "Devnagri is a script". We Speak Hindi and Write in Devnagri Script.

कंप्यूटर पर हिंदी में टायपिंग करना बहुत आसान बना दिया है - Hindi Typing on Computer is a buzz keyword search on Google Now days. Everyone want to type in Hindi, on Facebook, Twitter, Blogs, Comments, Webpages, MS Word or in many more applications. Here we have given easy Hindi Typing software that work's online and provides fast and accurate Hindi typing. The Online Hindi Typing you made here is typed in Unicode Hindi Font, so you can use it anywhere on the digital world. There are no. of methods to type in Hindi.

English to Hindi Typing

Humsafar Lyrics – Badrinath Ki Dulhania

Humsafar Lyrics

By : Akhil Sachdeva, Mansheel Gujral

Sun zaalima mere
Saanu koi dar na
Ki samjhega zamaana
Tu vi si kamli
Main vi sa kamla
Ishqe da rog sayana
Ishqe da rog sayana..

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Ki teri saansein chalti jidhar
Rahunga bas wahin umrr bhar
Rahunga bas wahin umrr bhar, haaye

Jitni haseen ye mulakatein hain
Unse bhi pyari teri baatein hain
Baaton mein teri jo kho jaate hain
Aaun na hosh mein main kabhi
Baahon mein hai teri zindagi, haaye

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar

Zaalima tere ishq ‘ch main
Ho gayi aa kamli… haaye..

Main toh yun khada
Kis soch mein pada tha
Kaise jee raha tha main deewana

Chhup ke se aake tune
Dil mein samaa ke tune
Chhed diya kaisa ye fasaana

O… muskurana bhi tujhi se seekha hai
Dil lagane ka tu hi tareeka hai
Aitbaar bhi tujhi se hota hai
Aaun na hosh mein main kabhi
Baahon mein hai teri zindagi, haaye!

Hai nahi tha pata
Ke tujhe maan lunga Khuda
Ki teri galiyon mein iss qadar
Aaunga ab har pehar…

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Ki teri saansein chalti jidhar
Rahunga bas wahin umrr bhar
Rahunga bas wahin umrr bhar, haaye

Zaalima tere ishq ‘ch main..